Pages

मोदीराज लाओ

मोदीराज लाओ
भारत बचाओ

बुधवार, 14 अप्रैल 2010

STAR NEWS द्वारा सेकुलर गिरोह की गद्दारी का एक और प्रमाण सामने लाया गया ।

आप सब अच्छी तरह से जानते हैं कि आज देश पूरी तरह से सेकुलर गिरोह के गद्दार तत्वों की पकड़ में है ऐसे में इस गिरोह के देशविरोधी कुकर्मों की जानकारी बाहर निकलना आसम्भव नहीं तो बहुत मुस्किल जरूर है।क्योंकि बलागरस को छोड़ कर सारा सूचना तन्त्र सेकुलर गद्दारों से भरा पड़ा है। देश के हालात इस कदर गद्दारों की पकड़ में हैं कि देश का गृहमन्त्री तक आतंकवादियों से लड़ने में अपने आप को अहसहाय महसूस करता है। प्रधानमन्त्री जी तो खुद इन गद्दारों के दबाब में ही काम रहे हैं । ऐसे हालात में जब भी गद्दारों के इस सेकुलर गिरोह की गद्दारी की खबर निकल कर वाहर आती है तो इस गिरोह के द्वारा नियन्त्रित मिडीया द्वारा दबा दी जाती है।

मामला चाहे एंटोनिया द्वरा तत्कालीन कानून मन्त्री हंसराजभारद्वाज को लंदन भेजकर क्वात्रोची के पैसे निकालवानेन व उसके उपर चल रहे केस हटाने का हो,या फिर प्रधानम्नत्री द्वारा पाकिस्तान को फायदा पहुंचाने के लिए शरमअलशेख में ब्लोचिस्तान पर दिया गया ब्यान हो या फिर एंटोनिया द्वारा तेल के बदले अनाज कार्यक्रम में पैसे खाने का हो या फिर कांग्रेस महासचिब द्वार उस आतंकवादी की सहायता का हो जिसे भागने में एक कांग्रेसी विधायक व एक समाजवादी विधायक अबु हाजमी ने सहायता की थी । हर मामला इस भारतविरोधी मिडीया द्वारा दबा दिया गया।

आपको ध्यान होगा कि कुछ समय पहले हसन अली नाम ब्यक्ति का नाम उभर कर सामने आया। जांच करने पर पाया गया इस ब्यक्ति ने 36000 करोड़ टैक्स चोरी किया था। ध्यान रहे माओवादी आतंकवादियों का सालाना बजट 16000 करोड़ रूपये का है और इस ब्यक्ति ने 36000 करोड़ रूपये टैक्स टोरी किया । कुल आय का अनुमान आप अपने आप लगा सकते हैं । जब जांच आगे बड़ी तो पता चला कि ये गद्दार पाकिस्तान समर्थक आतंकवादियों को आर्थिक मदद देता था । तभी अचानक न जाने क्या हुआ कि ये मामला दबा दिया गया ।पता ही नहीं चला कि क्यों और कैसे दबा दिया गया।अब पिछले कल ये खबर सामने आयी कि इस मामले का किसी देशभक्त ने स्टिंग आपरेसन किया है ।जिसमें ये पाया गया है कि सेकुलर गिरोह की सर्वेसर्वा एंटोनिया के सलाहकार अहमद पटेल+ महाराष्ट्रर के मन्त्री आर आर पाटिल +उपमुख्यमन्त्री छगन भुजबल + पूर्व मुख्यामन्त्री विलासराव देशमुख हसन अली के इतने प्रभाव में थे कि महाराष्ट्र का पुलिस प्रमुख तक इस गद्दार के इसारे पर तय करते थे।आप समझ सकते हैं कि अहमद पटेल के सामिल होने का मतलब है कि भारत सरकार के उच्चतम सतर की टोली एक गद्दार के इसारे पर नाच रही है। मतलब एंटोनिया सहायता कर रही है 36000 करोड़ रूपये का टैक्स टोरी करने वाले व पाक समर्थक आतंकवादयों की सहायता करने वाले हसन अली की। ठीक इसी तरह आर-आर पाटिल के सामिल होने का मतलब है सरद पबार का सामिल होना । यहां चर्चा हो रही थी हसन गफूर की यह वही पुलिस अधिकारी हे जो मुम्बई पर आतंकवादियों द्वारा किए गय हमले के दैरान गायब थे व बाद में अन्य पुलिस अधिकारियों को बदनाम करते हुए दिकाई दिय ।जो गम्भीर मामला था पर दबा दिया गया किसके द्वारा कहने की जरूरत नहीं। अब आप ही बताओ कि जो लोग आतंकवादियों से पैसा लेकर आतंकवादियों की मदद कर रहे हों वो आतंकवादियों के मानवाधिकारों की बात नहीं करेंगे तो किसके अधिकारों की बात करेंगे । आप समझ ही गए होंगे कि क्यों हम सेकुलर गिरोह को गद्दारों का गिरोह कहते हैं और क्यों ये गिरोह हर वक्त आतंकवादियों के वचाब में लगा रहता है।क्यों आतंकवाद खत्म होने के बजाए बढ़ता जा रहा है। हम एक वार फिर कह रहे हैं कि सेकुलर गिरोह हर तरह के आतंकवादियों चाहे वो पाक समर्थक मुसलिम आतंकवादी हों या पिर चीन समर्थक माओवादी आतंकवादी हों की हर तरह से मदद कर रहा है...

9 टिप्‍पणियां:

kunwarji's ने कहा…

आपने सही कहा जी,सिर्फ ब्लॉग जगत पर ही केवल "वो शर्मनिरपेक्ष" नहीं है!बाकी तो सारा मिडिया ही उनका गुलाम सा होता जा रहा है!कहते है ना,"यथा रजा,तथा प्रजा"!

सच्चाई सामने आकर रहती है!जैसे आप ये पर्यास कर रहे है उस से लगता है कि उन हरामखोरो के आने वाले दिन चैन से नहीं गुजरेंगे!



कुंवर जी,

Jandunia ने कहा…

देश की चिंता होनी चाहिए।

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

गुलामियत की आदत है सर , झेलते रहिये आप भी जब तक हो सके !

aarya ने कहा…

सादर वन्दे !
भाई जी ये कुत्ते की पूंछ हैं, सरकार नहीं रहने पर सीधी व सरकार बना जाने पर फिर टेंडी. इनकी पैदायिस ही देशद्रोही कृत्यों से हुयी है. फिर ये तो वही कर रहें हैं जो इन्हें विरासत में मिला है.
रत्नेश त्रिपाठी

सुलभ § सतरंगी ने कहा…

प्रथम पंक्ति में खड़े मीडिया समूह से राष्ट्र हित में उम्मीद करना बेमानी है.

बेनामी ने कहा…

पैसा आए पास में
देश जाए भाड़ में

निर्झर'नीर ने कहा…

रत्नेश त्रिपाठी ji ne bahut sahi kaha hai .."इनकी पैदायिस ही देशद्रोही कृत्यों से हुयी है. फिर ये तो वही कर रहें हैं जो इन्हें विरासत में मिला है."

Deepak ने कहा…

Mujhe ek bat samajh me nahi aati ki jab Bharat ki janta ye sab janti he to Deshdrohiyo ko vote dekar Sansad tak kyu pahuchati he...? Jo-jo Ham pichale 5 year me dekh chuke he, sah chuke he kya eske bad bhi koi kasar baki rah gayi he ye proove karne me ki Bharat gaddaro ke hath me chala gaya he...? Agar kuchh apvado ko chhod diya jaye to Congress jab-jab satta me aayi he tab-tab Bharat ka sarvnash hi kiya he.... Aap hi dekh lijiye ki Bharat ke jis jis state me Congress ki goverment he vaha Kaanon, Education, System ke kya hal he... Kaayro aur Chhakko ki sarkar dvara Bharat par raj kiya ja raha he.... Jo Apne hi ghar me aag lagane valo se gale mil rahe he.... Thu he... Dhikkar he... Congress ke Netaao se achchha to gandi nali me rahne wala ek pig hota he jo Apne bachcho par aayi musibat ka datkar mukabla to karta he...

HTF ने कहा…

जो आप कह रहे हैं जब ये बात आम लोगों की समझ में आ जायेगी तो ये आम लोग सब ठीक कर देंगे ।