Pages

मोदीराज लाओ

मोदीराज लाओ
भारत बचाओ

सोमवार, 5 अप्रैल 2010

जो जानवर अपने हर लेख में भारतीय संस्कृति के आस्था के प्रतीकों पर झूठे व अभद्र आरोप लगाकर प्रहार करते हैं उसके लेखों पर प्रतिक्रिया देना क्या उसके द्वारा फैलाई जा रही बकवास को बढ़ावा देने के समान नहीं ?

हम जब लखनऊ ब्लागर ऐसोसियेसन पर गए तो हमने सोचा कि हम अपने से अलग सोच रखने वालों से चर्चा-परिचर्चा करेंगे ।लेकिन वहां तो अधिकतर ऐसे लेख आने लगे जिनका एक मात्र सार भारतीय संस्कृति का नाम लेकर भारतीय संस्कृति को ही लांछित करना था। पहले हमने सोचा कि हम इसका जबाब देंगे लेकिन फिर ख्याल आया कि क्या जबाब देंगे जैसे वो भारतीय संस्कृति के आस्था के प्रतीकों को गाली निकाल रहे हैं बैसे ही हमें अरब देशों के आस्था के प्रतीकों को गाली निकालनी पड़ेगी। जो हमारे स्वभाव के विपरीत है ।हम तो यहां सिर्फ उन बातों का प्रतिकार करने के लिए हैं जो हमारे अपने देश में हमें ही मौत के घाट उतारने के लिए उपयोग हो रही है ।उस तर्कविहीन चर्चा से बचने के लिए हमने लखनऊ बलागर ऐसोसियन छोड़ दी।

लोकिन हम देख रहे हैं कि बलागवाणी पर भी ऐसे हिन्दूविरोधी जानवरों के तर्कविहीन बकबास को काफी देशभक्त लोग भी अपनी बहुमूल्य टिप्पणी लिख कर सम्मानित कर रहे हैं।हम ये तो नहीं मान सकते कि ये लोग इनके भ्रमित करने वाले शीर्षकों में उलझ कर उस बकवास पर कलिक कर देते हैं। हमारे इन मित्रों को सोचना चाहिए कि ये जानवर ऐसे भ्रमित करने वाले शीर्षक बनाते ही इसलिए हैं ताकि इनको प्रचार मिले और जब हम ऐसे लेख पर कलिक करते हैं तो ये अपने मकसद में सफल हो जाते हैं।आपकी टिप्पणी पक्ष में है या विपक्ष में इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।हमारे विचार में सिर्फ तरकपूर्ण वातों पर ही टिपणी की जानी चाहिए और तरकहीन बकवास पर न तो क्लिक करना चाहिए नही उस पर टिप्पणी की जानी चाहिए।जिन बलागों पर लगातार ऐसी बकवास लिखी जा रही है उनका वहिसकार करना चाहिए।

अनेक जागरूक भाई तो इन जानवरों द्वारा फैलाई जा रही बकवास का विरोध करने के लिए टिप्पणी लिखते हैं हैं लेकिन हमने तो ऐसे भी बैद्धिक गुलाम देखे जिन्होंने ऐसे ही जानवरों द्वारा मर्यदा पुर्षोतम भगवान राम-माता सीता -शृष्टी के निर्मात भगवान ब्रहमा-पालक भगवान विशनु व अधर्मियों के विनाशक भगवान महेश को अपमानित करने वाले ब्लागों पर जाकर उनका समर्थन तक कर डाला। इन बेबकूफों को कौन समझाये कि जब इस तरह की बातें लिखने वाले खुद का धर्म धरेमनिर्पेक्षता लिखते हैं तो फिर अरब देशों के आस्था के केन्द्रों की पैरवी व प्रचार-प्रसार वो क्यों करते हैं बास्तव में ये लोग सिर्फ बैद्धिक गुलाम हिन्दूओं को भ्रमित करने के लिए कभी खुद को सेकुलर बनाकर पेश करते हैं कभी अपना हिन्दू नाम रखकर हिन्दू धर्म को गाली निकालते हैं दोनों ही स्थितियों में ये बौद्धिक गुलाम हिन्दू इनके फैलाए जाल में फंसकर अपने सारे भारतीय समाज को निचा दिखाते हैं।हम इन बौद्धिक गुलाम हिन्दूओं से विनम्र प्रार्थना करते हैं कि आप अगर भारतीय संस्कृति का समर्थन नहीं कर सकते तो कम से कम मुंह तो बन्द रख सकते हैं। अगर आपको सेकुलर गिरोह की देशविरोधी हिन्दूविरोधी षडयन्त्रों के वारे में कोई शंका है तो कम से कम एक वार आप हमारी पुस्क नकली धर्मनिर्पेक्षता जरूर पढ़ लें फिर भी भ्रम रहे तो हमारे से सीधी चर्चा करें या तो हमें अपना तर्कपूरण नजरिया समझा दें या फिर हमारा नजरिया समझ लें। पर भगवान के लिए इन हिन्दूविरोधियों के जाल में फंस कर इनके हिन्दूमिटाओ –हिन्दूभगाओ अभियान के सहयोगी वनकर मानवबता के विनाश में हिस्सेदार न बनें। आपको याद रखना चाहिए कि जयचंद और कृपा राम की गद्दारी ने ही इन आतंकवादी राक्षसों को आगे बढ़ने में सहायता की वरना आज भी हम अफगानीस्थान तक होते।

16 टिप्‍पणियां:

बैरागी ने कहा…

आप ने एकदम ठीक कहा है आचार्य चाणक्य कहते है की जब कुत्ता भोंकता है तो उसे छेडना नही चाहिए बाद मई वो अपने आप चुप हो जायेगा

जी.के. अवधिया ने कहा…

सही कहा आपने, हमारी ही मूर्खता के कारण ये अपने उद्देश्य में सफल होते जा रहे हैं। इनके लेखन को विक्षिप्त का प्रलाप समझना चाहिये और इनके ब्लोग में झाँकने तक के लिये नहीं जाना चाहिये।

बबला यदु ने कहा…

हमारी ही मूर्खता के कारण ये अपने उद्देश्य में सफल होते जा रहे हैं। इनके लेखन को विक्षिप्त का प्रलाप समझना चाहिये और इनके ब्लोग में झाँकने तक के लिये नहीं जाना चाहिये।

kunwarji's ने कहा…

आजकल जो ब्लोग्युद्ध सा छिड़ा हुआ है ब्लॉगजगत में हिन्दू-मुस्लिम संस्कृतियों को लेकर अपने-आप में दुर्भाग्यपूर्ण है!लेकिन जब कोई हमारे बारे में कुछ गलत कह रहा है तो उसे उसका जवाब भी तो मिलना चाहिए!जो सक्षम है जवाब देने में वो तो जवाब जरुर देंगे,देना भी चाहिए!हिन्दुओ की ये भावना के "कुत्ता भौंक कर अपने आप चुप हो जाएगा" काफी हद तक जिम्मेवार है कुत्ते की भों-भों सुनने के लिए!

Bhavesh (भावेश ) ने कहा…

मैंने अभी तक एक बार इस तरह का लेख पढ़ा, अपना स्पष्टीकरण दिया. थोड़े ही समय में जब ये सिद्ध हो गया कि ये तो केवल उत्तेजना फैला कर कुतर्क करके लोगो को अपने ब्लॉग पर खीचने का खेल है तभी से मैंने ये ये निश्चय कर लिए कि उन ब्लॉग पर नहीं जाऊँगा. अभी तक उसके बाद मैंने उन ब्लॉग का कोई लेख नहीं पढ़ा अफ़सोस तकरीबन हर रोज ही मैं ये देखता हूँ कि वो लेख अक्सर हॉट लेख कि लिस्ट में विराजमान रहते है. इसका मतलब स्पष्ट है कि लोग उस तरह के लेख को देखते, पढते है और कमेन्ट भी करते है. मेरा अपना नजरिया अलग है इसलिए मैं अपनी तरफ से एक प्रयास करता हूँ कि हर उस तरह की चीज़ को पढ़ने से परहेज करू जो मेरी आस्था पर अनैतिक चोट पहुचाने का प्रयास करते है.

कृष्ण मुरारी प्रसाद ने कहा…

सफाई अभियान घर से शुरू होती है...जब हम अपने घर की सफाई खुद करते हैं, तब हमें अच्छी नजर से देखा जाता है...लगता है कि हम गन्दगी से चिंतित हैं....
...जो लोग दुसरे की घर की गन्दगी पर ही ध्यान देते रहते हैं तो इसका मतलब ही है..कि उनको कोई और काम आता ही नहीं सिवाय ...."सफाई कर्मचारी"..... के....
अगर किसी को सफाइ का इतना ही शौक है तो खुद अपने घर से शुरू करें....

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

बिल्कुल सही लिखा है. भावेश और अवधिया जी से सहमत. बढ़ावा देना है तो महफूज जी, फौजिया जी, फिरदौस जी जैसे अच्छे भारतीय मुस्लिमों को बढ़ावा और प्रोत्साहन दें..

Tarkeshwar Giri ने कहा…

अच्छी बहस है। लेकिन बात करने से ही बात बनती है। अगर हम इनका मुंह तोड़ जबाब नहीं देंगे तो ये इसी तरह से सर पर चढ़ करके बोलते रहेंगे।

अजय कुमार झा ने कहा…

अब समय आ गया है कि कुछ समय के लिए ऐसे मुद्दों को दफ़ना दिया जाना चाहिए ..
अजय कुमार झा

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

इन बेशर्म, अधर्मी,देशद्रोही लम्पटों का काम ही यही है कि कैसे भी करके बस अपनी टीआरपी बढनी चाहिए...चाहे उसके लिए गालियाँ तो गालियाँ जूते तक क्यूं न खाने पडें...

वीनस केशरी ने कहा…

अजय जी से सहमत हूँ कि

अब समय आ गया है कि कुछ समय के लिए ऐसे मुद्दों को दफना दिया जाना चाहिए

महाशक्ति ने कहा…

दोयम दर्जे के लखनऊ ब्‍लागर एशोसिएशन की चर्चा करना भी व्‍यर्थ है, अगर सामूहिक प्रयास की बात है आज दिया जाये मुँह तोड़ जवाब

कमलेश वर्मा ने कहा…

AAP LOGON KI KAHBAR ISI TARAH THODA SANYAM KE SAATH RAKHTE RAHEN...KUTTE KI POONCHH KABHI NA KABHI TO SIDHI HOGI ..!! NAHI TO AK NA AK DIN KAT HI JAYEGI ...JARI RAKHEN ..JAI HIND

मौसम ने कहा…

आपसे सहमत
फ़िरदौस जी, भी इंसानियत और भारतीय संस्कृति की बात कर रही हैं तो आज उन्हें काफ़िर ही घोषित कर दिया गया है. सलीम खान ने अपने ब्लॉग पर पोस्ट लिखकर फ़िरदौस जी पर गंभीर आरोप लगाये हैं. इस्लाम का प्रचार करने वाले सलीम खान कितने सभ्य (असभ्य या जंगली कहना उचित रहेगा) हैं, आपके बारे में लिखी इनकी पोस्ट देखकर ही पता चल जाता है.
दिमाग़ से पैदल ये कुतर्की भारत को भी तालिबान बनाने पर तुले हुए हैं, जब इन्हें भरतीय संस्कृति से इतनी ही नफ़रत है तो क्यों न यह अरब जाकर ही बस जाए. इस देश को इन जैसे तालिबानियों की ज़रूरत नहीं.

आज फ़िरदौस जी जैसे मुसलमानों की देश को बहुत ज़्यादा ज़रूरत है, साथ ही उनके अभियान को समर्थन देने की, ताकि और देशभक्त लोग आगे आ सकें !!!

बेनामी ने कहा…

CONGRESH HAMESH DESH OR HINDUO KE SATH DHOKA KARTI AARAHI HAI . JO BHI CONGRESH KE KHILAP BOLTA HAI CONGRESH USI KE KHILAP KAE JACH BETA DETA HAI CONGESH HAMESH ANGREJ NJTI APNA RAHA HAI JESE AGREJ KE KHILAP KOE BOLTA THA TO USE DAND MILTA HTA YHI NITI CONGRESH KAR RAHI HAI.



SHAILENDRA SINGH BHAORIYA

DIST. PRESINDET JAGO HIND SANGTHAN MORENA
MOB. 09074788101

बेनामी ने कहा…

CONGRSH YH BHUL GAYE KI AB HITLAR NITI NAHI CHALEGI AB SHASHAN JANTA KA HAI. N KI CONGRESH KE NETAO KA
JJO JAB CHAHE USI PR RASPATI SHASHAN LAGANE KI DAMKI DETE RAHATE HAI. ESE CONGRESH KI OCHI MANSIKATA DARSATI HAI. KI CONGRESH SATTA KE LIYE KITNE BECHAN HAI.
AGR CONGRDH ME DAM HAI TO PAHLE APHAJAN GURU KO PFHASI DE OR JANLOK PAL BILL PASS KARE TAB DESH KI JANTA SE BAT KARE



SHAILENDRA SINGH BHADORIYA
DIST. PRESINDET JAGO HIND SANGTHAN MORENA
MOB. 9074788101
ATER ROAD PORSA