Pages

मोदीराज लाओ

मोदीराज लाओ
भारत बचाओ

गुरुवार, 10 जून 2010

क्या आप इस बात से सहमत हैं कि नैहरू-गांधी खानदान बयाभिचारियों,हिन्दूविरोधियों षडयन्त्रकारियों व गद्दारों का खानदान है?


आपने देखा कि किस तरह भोपाल नरसंहार जिसमें 15500 लोग मारे गए व 500000 घायल हुए के अपराधी ईसाई ऐंडरसन को ततकालीन युवा प्रधानमन्त्री राजीब गांधी (वेशक एंटोनिया पढ़ें) ने सारी सरकारी मशीनरी का उपयोग कर देश छोड़कर अमेरिका भाग जाने की ब्यबस्थ की ।जिसमें हरवक्त हिन्दूओं पर हमला करने वाले अर्जुन सिंह ने भी सक्रिय भूमिका निभाई।


इन बातों की पूस्टी ततकालीन CBI निदेशक बी आर लाल, DM मोति सिंह, PILOT हसन कर चुके हैं ।अब इस बात में कोई संदेह नहीं कि इन कातिलों को भगाने वाला नेहरू-गांधी परिवार के शिवा और कोई नहीं।


ये वही खानदान है जिसने 1947 में भारत का धर्म के अधार पर बंटबारा कर बंटवारे की असली जड़ मुसलमानों को भारत में रककर हिन्दूओं को दूसरे दर्जे का नागरिक बना डाला।


यह वही खानदान है जिसे राजीब गांधी ने अपनी बासना की पूर्ति के लिए देश के दुसमनों द्वारा planted विषकन्या एंटोनिया के जाल में फंसकर देश को एकवार फिर अंग्रेजों का गुलाम बना डाला।


जिस विषकन्या ने पहले तो अपने Boy friend Ottavio Quattrocchi के साथ मिलकर बोफोर्स दलाली कांड को अनजाम दिया व बाद में पोल खुलने के डर से Ottavio Quattrocchi ने LTTE के साथ मिलकर राजीब गांधी जी का कत्ल करवा डाला।


http://blogs.ibibo.com/ViewComments.aspx?blogid=3c849c43-7793-4455-831c-37f1e8f84ef6&mid=811ff191-26ba-4157-9dea-951460e7e3fc






अन्त में इस विषकन्या ने अपने गुलाम प्रधानमन्त्री के माध्यम से कातिल Ottavio Quattrocchi के उपर से सारे मामले खत्म कर डाले।


















14 टिप्‍पणियां:

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

भाई सुनील जी..ये राजनीती है..यहाँ कम कोई नहीं..सब एक से बढकर एक...इस हमाम में कौन ऎसा है जिसे आप कह सकें कि ये कपडे पहने हुए है.

dhiru singh {धीरू सिंह} ने कहा…

क्या होगा यह सब लिखने से .

Suresh Chiplunkar ने कहा…

भोपाल के तालाब में अभी तो कई कांग्रेसियों के गन्दे कपड़े धुलने आने वाले हैं… :)

Arvind Mishra ने कहा…

आपने पूछा है हम सहमत हैं -तो हम सहमत हो सकते हैं बशर्ते आप अपनी बात सलीके से रखें !

honesty project democracy ने कहा…

दो हजार प्रतिशत सहमत ,ऐसे लोगों का अंत निकट आ रहा है |

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

बहुत ही गन्दी राजनीति की गई एंडरसन और क्वात्रोकी के मामलों में..

Jandunia ने कहा…

इस पोस्ट के लिेए साधुवाद

Tarkeshwar Giri ने कहा…

Bahut badhiya aur jandar post.

aarya ने कहा…

सादर वन्दे !
लोग नहीं भी नहीं कह रहे हैं और हाँ कहने में हिचकिचा रहे हैं !
यही मानसिकता हमारे दुर्दशा का कारण है ! मै मानता हूँ कि यह सही है बिना किसी लागलपेट के !
रत्नेश त्रिपाठी

सुलभ § Sulabh ने कहा…

जिनके कुकृत्य सामने हो उस मुद्दे पर असहमति नहीं हो सकती. गन्दगी जहाँ भी है जिसके ऊपर भी है खिलाफत तो करना ही है.

Truth or Dare ने कहा…

sahi kahaa aapne unke paas ek hi formulaa hain jo hindu virodhi vote bank

दीर्घतमा ने कहा…

Motilal nehru ke pita Bahadursah ke kotwal the ,unka nam --- gaji tha Allahabad ane ke bad apna nam badal kar nehru kar liya motilal ka bhi khatna huwa tha ye muslim pariwar tha. ab yah pariwar kriyashchiyan ho gaya hai .
isme ashcharya ki koi bat nahi hai .
bebak tippadi hai
dhanyabad

फ़िरदौस ख़ान ने कहा…

विचारणीय...

संजय भास्कर ने कहा…

विचारणीय लेख के लिए बधाई