Pages

मोदीराज लाओ

मोदीराज लाओ
भारत बचाओ

शुक्रवार, 9 जुलाई 2010

आओ हम बताते हैं आपको कि बाबा अमरनाथ यात्रा शरू होने से ठीक पहले घाटी में आग किसने लगाई और किसने हबा दी।





हम अक्कसर बहुत सी बातों को जानते हुए भी उनके प्रति आँखें मूंदकर अपनी बरबादी को अपने पास आने देते हैं। होना तो ये चाहिए था कि जब मुसलमानों ने 1985 में अलकायदा की स्थापना के बाद


1986 में कशमीरघाटी में हिन्दूओं व सुरक्षाबलों पर हमले शुरू किए उसी बक्त या तो सेना को खुला हाथ देकर हमलाबरों की कबर घाटी में ही खोद दी जाती या फिर सरकार द्वारा सैनिकों को खुला हाथ न देने की स्थिति में हिन्दू खुद अपने हिन्दू भाईयों की रक्षा की खातिर देश के अन्य हिस्सों में मुसलिम आतंकवादियों व उनके समर्थकों पर हमले शुरू कर आतंवादियों पर दबाब बनाकर आतंकवादियो को हिन्दूओं पर हमले रोकने पर मजबूर करते।


इससे न केबल कशमीरघाटी में हिन्दूओं की रक्षा होती बल्कि साथ ही आसाम व उतर पूर्ब सहित अन्य राज्यों में भी आतंकवादियों व उनके समर्थकों को सबक मिलता हिन्दूओं पर हमला न करने का।


यहां तो उल्टा हुआ उधर मुसलमानों ने हिन्दूओं पर हमले शुरू किए इधर सेकुलर गद्दारों ने उनके समर्थन में समाचार चैनलों ,पत्र-पत्रिकाओं व अन्य साधनों का उपयोग कर महौल बनाना शुरू कर दिया।


देश में जिस भी संगठन या वयक्ति ने हिन्दूओं पर हो रहे अत्याचारों के विरोध में आबाज उठाई उसे बड़ी वेशर्मी से सांप्रदायिक करार देकर मुसलिम आतंकवादियों को अपने कुकर्मों को जारी रखने के लिए उकसाया गया।


परिणामस्वारूप कशमीर घाटी में 60000 हिन्दूओं का कत्ल कर 500000 हिन्दूओं को वेघर कर दिया गया।
ये काम अन्जाम दिया गया मस्जिदों व मदरसों से दुशप्रचार कर व लोगों को हिन्दूओं पर हमले करने के लिए उकसाकर।


अब जबकि घाटी से हिन्दूओं का लगभग सफाया हो चुका है मुसलिम आतंकवादियों ने पिछले कई बर्षों से सुरक्षाबलों पर हमले तेज किए हुए हैं।
आज शायद ही कोई दिन ऐसा गुजरता है जिस दिन देश की रक्षा की गारंटी हमारे बहादुर सैनिक शहीद नहीं होते।



अब जबकि कशमीरघाटी में सिर्फ मुसलिम आतंकवादी और उनके मददगार ही शेष बचे हैं तो फिर ऐसी कौन सी मजबूरी है जिसके कारण हमारे सैनिक अपनी रक्षा तक नहीं कर पा रहे हैं ।


सैनिकों के इस तरह कत्ल होने का एकमात्र कारण है केन्द्र

व राज्य सरकार का


आतंकवाद समर्थ रबैया। इन सराकारों ने आतंकवादियों के हमलों को सफल बनाने व सुरक्षावलों द्वारा निर्णायक जबाबी कार्यवाही न करने देने के लिए सेना के अधिकारों को इतना कम कर दिया है कि आतंकवादी वेखौफ होकर सैनिकों के बंकरों व टुकड़ियों पर हमला कर रहे हैं।



आज भी सरकार मुसलिम आतंकवादियों की विजय सुनिस्चित करने के लिए सेना पर और प्रतिबन्ध लगाने के चक्कर में है। जिसका सेना के तीनों अंगों के सेना प्रमुख विरोध कर रहे हैं। पर सरकार कहां मानने वाली है उसे तो हर हाल में मुसलिम आतंकवादियों की जीत सुनिस्चित करनी है मानबाधिकों को ढ़ाल बनाकर। पिछले दिनों में शायद ही ऐसी कोई घटना होगी जिसमें सैनिकों द्वारा आतंकवादियों को मुठभेड़ में मार गिराने पर सरकार ने सैनिकों के विरूद्ध मुकद्दमा दर्ज नहीं किया होगा।


मुसलिम आतंकवादियों के इरादों का पता आप इसी बात से लगा सकते हैं कि जैसे ही कसमीरघाटी में बाबा अमरनाथ यात्रा शुरू होती है बैसे ही ये आतंकवादी अपने हमले तेज कर सैनिकों को उलझाकर इस पबित्र यात्रा में बाधा पैदा कर तीर्थ यात्रियों पर हमले शुरू कर देते हैं।


ऐसा नहीं कि सरकार इस यात्रा में कोई ब्याबधान नहीं डालती। हर बर्ष की तरह इस बर्ष भी सराकर ने लंगर लगाने बालों से 25000 रूपए का भारी भरकम जजियाकर बसूल किया । जब इतने से जिहादी मुसलिम उमर अबदुल्ला का मन नहीं भरा तो तीर्थ यात्रियों को ले जाने वाली बसों का एक दिन का टैक्स 2500 रूपए कर दिया गया मतलब टैक्स के साथ जजिया कर भी लगा दिया गया। इसेके अतिरिक्त यात्रीयों से रजिस्ट्रेसन फीस के नाम पर जजिया बसूला गया सो अलग।


हमें तो यह सोचकर ही हैरानी होती है कि जो सरकार मक्का मदीना की यात्रा के लिए प्रति मुसलमान 60000 रूपए की खैरात बांटती है माननीय नयायालय द्वारा रोक लगा देने के बाबजूद वही सरकार किस मुंह से हिन्दूओं की धार्मिक यात्राओं पर जजिया कर लादकर रूकबटें पैदा करती है?


इसे भी जयादा हैरानी हमें उन बैद्धिक गुलाम हिन्दूओं पर होती है जो सरकार के इन भेदभावपूर्ण अमानबीय सरोकारों का विरोध करने की जगह विरोध कर रहे जागरूक हिन्दूओं पर धावा वोल देते हैं।


अपने इन बौद्धिक गुलाम हिन्दूओं के सहयोग की बजह से भारतविरोधी देशविरोधी ताकतें (चाहे वो पाक समर्थक मुसलिम आतंकवादी हों या फिर चीन समर्थक माओवादी आतंकवादी या फिर धर्मातरण समर्थक इसाई आतंकवादी ) आगे बढ़ती जा रही हैं जिसके परिमामस्वारू हर भारतीय के जानमाल पर खतरा बढ़ता जा रहा है।


आओ पूर्वाग्रहों व दुशप्रचार से आगे निकलकर भारतविरोधियों का विनाश सुनिश्चित करेन के लिए एकजुट होकर काम करें।






5 टिप्‍पणियां:

Yugal Mehra ने कहा…

ऐसे ही जयचंदों और ऐसे ही खबरिया स्त्रोतों के कारन देश गुलाम हुआ होगा

पंकज मिश्रा ने कहा…

बहुत अच्छा सुनीलजी,आप की लेखन शैली गजब की है आप ऐसे मुद्दों को उठाते रहिए

दीर्घतमा ने कहा…

सुनील जी
नमस्ते
हिन्दुओ को जगाने क़े अतिरिक्त और कोई चारा नहीं है यह सब उमर अब्दुल्ला और मनमोहन की सरकार ही सब कर रही है दोनों मिले हुए है सेकुलर क़े नाम पर हिन्दुओ को समाप्त करना ही उनका लक्ष्य है उमरअब्दुल्ला की हिम्मत तो देखो सुरक्षा बालो पर कैसा आरोप लगा रहा है वास्तव में भारत की अस्मिता क़े साथ खेल हो रहा है,आखिर यूनान,मिश्र,ये सभी देशो की जमीन,पहाड़ जंगल तो लेकिन इनका कल्चर इनका धर्म व संस्कृति सब समाप्त हो गयी ये देश समाप्त हो गए अब हमें समाप्त करने क़े लिए सोनिया को अमेरिका ने प्लान कर दिया है सोनिया ने कांग्रेश को गुलाम बना लिया है कांग्रेश कार्यकर्ता गुलामी की मानसिकता से उबर नहीं पा रहा है जबतक वह चेतेगा तबतक देश समाप्त हो चुका होगा .
भगवान पता नहीं कब चाणक्य जैसा किसी महापुरुष को इस धरती पर भेजेगा .

राहुल पंडित(हिंदुत्व की रक्षा के लिए कृतसंकल्प) ने कहा…

वन्देमातरम
सही कहा सुनील जी आपने...ये तथाकथित सेकुलरवादी इसी बहाने हिन्दुओं को मिटने की कोशिश कर रहे हैं.जब आज हेडली ने बतला दिया की इशरत जहाँ लश्कर-अ तैबा की आत्मघाती फ़िदैएन थी और उसने अयोध्या की रेकी भी की थी, तो भी ये रास्ता ढूंढ रहे हैं की जैसें अफज़ल गुरु को दामाद बनाये बैठे हैं उसी तरह सभी आतंकवादियों (हिन्दुइस्म के दुश्मनों)को दामाद बनायें..पता नहीं कितनी बेटियां हैं इनके पास.

VK Kaushik ने कहा…

very informative
please keep writing
http://vkkaushik1.blogspot.com/