Pages

मोदीराज लाओ

मोदीराज लाओ
भारत बचाओ

गुरुवार, 24 अक्तूबर 2013

राहुल गाँधी की दंगाई भारतविरोधी जहरीली सोच की असलियत एकवार फिर जग जाहिर हो गई आज इन्दौर में...


 
आप सब जानते हैं कि राहुल गाँधी ने अपने कल के भाषण में कहा था कि मुजफरनगर के मुसलमान भारत छोड़कर पाकिस्तान जाना चाह रहे हैं(मुसलमानों ने राहुल गाँधी से ये कहा) और वह खुद (राहुल गाँधी) उन्हें समझा रहा है कि उन्हें पाकिस्तान नहीं जाना चाहिए लेकिन आज इन्दौर में राहुल गाँधी ने कहा कि एक-दो दिन पहले खुफिया विभाग का एक अधिकारी उनके कमरे में आया और उसने राहुल गाँधी को बताया कि मुजफरनगर में पाकिस्तान की खुफिया ऐजेंसी उन 10-15 मुसलमानों से सम्पर्क बना रही है जिनके परिजन हिन्दूओं द्वारा दंगो में मारे गए(जबकि सच्चाई ये है कि इन दंगो की शुरूआत हिन्दूओं ने नहीं की और इन दंगों में हिन्दूओं को जान-माल का भारी नुकसान उठाना पड़ा) लेकिन खुफिया विभाग को वो अधिकारी उन्हें पाकिस्तान जाने से रोक रहा है...

राहुल गाँधी ने कल जब ये कहा कि मुजफर नगर के मुसलमान पाकिस्तान जाना चाह रहे हैं तो उसने भारत की छबि दुनिया में खराब करने की कोशिश...अब जब वो ये कह रहा है कि खुफिया अधिकारी ने उसे ये बताया कि मुसलमान पाकिस्तान जा रहे हैं तो वो भारतीय खुफिया ऐजेंसियों का नाम खराब कर रहा है क्योंकि खुफिया ऐजेंसिया संबैधानिक तरीके से प्रधानमन्त्री व गृहमन्त्री को रिपोर्ट करती हैं न कि किसी पार्टी के पदाधिकारी को...अगर कल उसने झूठ कहा था और आज वो सच वोल रहा है तो इसका मतलब ये हुआ कि भारत की सुरक्षा ऐजैंसिया भारत की सुरक्षा से खिलवाड़ करते हुए प्रधानमन्त्री व गृहमन्त्री को रिपोर्ट करने के बजाए काँग्रेस पार्टी के नेताओं को रिपोर्ट कर रही हैं और यही वो सच्चाई है जिसके कारण ये सुरक्षा ऐजेंसिया भारत के प्रखर देशभक्त नागरिकों के बिरूद्ध एक के बाद एक षडयन्त्र रच कर उन्हें बदनाम करने की हर सम्भव कोशिश कर रही है फिर वो चाहे स्वामी रामदेव जी हों या फिर नरेन्द्र भाई मोदी जी या फिर जनरल विक्रम सिंह जी या फिर  इनके जैसे और प्रखर देशभक्त ।

सुरक्षा ऐजेसियों के इन भारतविरोधी नेताओं के हाथों में खेलने का ही ये दुषपरिणाम है कि ये नेता लाखों हजारों करोड़ के घोटालों के माधयम से भारत की देशभक्त मेहनतकश जनाता का माल डकार कर भी आज जेलों से बाहर हैं व भारत के इमानदार, देशभक्त नेताओं, नागरिकों व सन्तों को जेल में डालने के हर तरह के षडयन्त्र रच रहे हैं...

अब ये भारत के नौजवानों को तय करना है कि उन्हें भारत को जाति-पंथ-भाषा-क्षेत्र के नाम पर लड़वानकर विकाश दर को लगभर 3 प्रतिशत पर पहुंचाकर नौजवानों को वेरोजगार करने वाली व मंगाई बढ़ाकर गरीबों को भूखा मरने पर मजबूर करने वाली विभाजनकारी काँग्रेस के झूठे और दंगाई नेता राहुल गांधी का साथ देना है या फिर प्रखर देशभक्त समस्त भारतीयों को एक शूत्र में बांधकर भारत को विकाश की नई उंचाईयों तक ले जाकर नौजवानों को रोजगार और मानसमान की गारंटी देने वाले नरेन्द्र भाई मोदी जी के हाथ मजबूत कर देश को आगे ले जाना है

3 टिप्‍पणियां:

सूबेदार जी पटना ने कहा…

सुनील दत्त जी नमस्ते
एक ही बिकल्प नरेंद्र मोदी । राहुल का खून ही देशद्रोही है।

Subhash Vishwakarma ने कहा…

Rahul ka khun jaychand ka khun hai Bhart ka ek hi bikalp modi hi hai

Subhash Vishwakarma ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.