Pages

मोदीराज लाओ

मोदीराज लाओ
भारत बचाओ

सोमवार, 20 दिसंबर 2010

देशभक्त और गद्दार का अन्तर आप खुद महसूस कर लो।


कौन कहता है कि भारत में देशभक्त सिर्फ संघ या हिन्दू संगठनों में ही मलते हैं। इसमें कोई शक नहीं कि आज अधिकतर देशभक्त हिन्दूसंगठनों के साथ संगठित होते जा रहे हैं इसी बजह से इन संगठनों में देशभक्तों की अधिकता देखी जा रही है।लेकिन ये भी उतना ही सही है कि हिन्दू संगठनों के अथक प्रयत्नों के बाबजूद देशभक्त पूरे देश में हर संगठन में अभी भी मौजूद हैं वेशक कीं इनकी शंख्या कहीं कम है तो कहीं ज्यादा है।


इन्ही विखरे पड़े देशभक्तों ने गद्दारों के नाक में संगठित देशभक्तों से ज्यादा दम किया हुआ है। आप कहेंगे कि कैसे पता लगायेंगो कौन देशभक्त है और कौन गद्दार । आप अखवार कि ये दो कटिंग पढ़ लो ।आप अपने आप कहने को मजबूर होंगे कि इस गद्दार ने तो हद ही कर दी।


ये रही पहली कटिंग इसमें एक देशभक्त अमेरिका के अधिकारी को भारत पर पाकिस्तानी हमले के वारे में बताकर आतंकवादी पाकिस्तान की पोल खोलने की कोशिश कर रहा है।



ये रही दूसरी कटिंग इसमें एक गद्दार अमेरिकी अधिकारी को समझा रहा है कि भारत को खतरा पाकिस्तानी जिहादी आतंकवादियों से नहीं वल्कि हिन्दूओं से है।मतलब विदेशी अंग्रेज एडवीज एंटोनिया अलवीना माइनो उर्फ सोनिया गांधी की कुलाद राहुल गंदगी जिस पत्र में खा रहा है उसी में छेद कर रहा है।






इसीलिए तो मोदी जी तो अब जाकर ये समझ में आया कि अमेरिका को भारत के खिलाफ व पाकिस्ताने के समर्थन भड़ाकने वाला जयचन्द कौन है।











4 टिप्‍पणियां:

राहुल पंडित ने कहा…

श्वेत कपडे के अन्दर लिपटे हुए इन देश द्रोहिओं को अब बाहर खीचकर लेन की जरुरत आ गयी है.नहीं तो ये हमें,हमारे ही देश से बहर कर देंगे-
यह नहीं शांति की गुफा,युद्ध है-रण है
तप नहीं,आज केवल तलवार शरण है
ललकार रहा भारत को स्वयं मरण है
हम जीतेंगे यह समर,हमारा प्राण है
___वन्देमातरम_____

सुलभ § Sulabh ने कहा…

Rahul Apne Baap Dadaon dwaara ki gayi galtiyon ko dohrana chaahte hain. Desh ko todne ki koi bhi koshishe ab poori nahi hogi.

दीर्घतमा ने कहा…

यह तो पहले से ही देश को पता है कि सोनिया ,राहुल अमेरिकन एजेंसी से जुड़े हुए है ,वास्तविकता यह है कि हम आज परिकियो के गुलाम हो गए है हमें नयी आज़ादी की चेतना हिन्दू समाज में जगानी पड़ेगी.

AryaSurenderVerma ने कहा…

Rahul gandhi such kah rha ki khatra hindu sanghtno se hai. par sayad wo ye kahna bhul gye ki wo khatra bharat ko nhi unko, unke pariwar or unki party ko hai. wo kya jane kya hindu dharam, hindu samaj videsho mein pad likh kar bada hone wala desh ki rakhsya krne walo se desh ko khatra bta rha h. agar desh ko khatra hai aastin ke ssapo se hai.