Pages

मोदीराज लाओ

मोदीराज लाओ
भारत बचाओ

रविवार, 21 फ़रवरी 2010

वन्देमातरम् का विरोध देशद्रोह नहीं तो और क्या है ?





जब हमने सुना कि स्वामीरामदेव जी देववन्द में जा रहे हैं तो लगा कि मुसलिम जिहादी आतंकवादियों की जन्मदाता जमात की सोच में बदलाब आ रहा है

लेकिन इस यात्रा के आस-पास जो कुछ घटा उस सबने हमारे जैसे अति आशाबादी करोड़ो लोगों को इस सच्चाई का सामना करबा दिया कि मुसलमानों का एक

बड़ा बर्ग 1947 में भी गद्दार था आज भी गद्दार है और तब तक गद्दार रहेगा जब तक इन गद्दारों का हिन्दूक्रांति के माध्यम से दिमाग ठीक नहीं कर दिया

जाता । आप सोच रहे होंगे कि क्या बजह है कि ये गिने-चुने गद्दार बार-बार भारत के मान-सम्मान को मलियामेट करते हैं बेगुनाह भारतीयों का खून बहाते हैं

देश का विभाजन करबाते हैं फिर भी जिन्दा बच जाते हैं । इसकी सबसे बड़ी बजह यह है कि इन मुसलिम जिहादी आतंकवादियों के समर्थक व पोषक बाद्धिक-

गुलाम हिन्दु 1947 में भी सता मे थे आज भी सता में हैं और तब तक सता में रहेंगे जब तक इन बोद्धिक गुलाम हिन्दुओं की बुद्धि को ठीक नहीं कर दिया

जाता ।अब प्रश्न यह उठता है कि इन गद्दारों की बुद्धि को ठीक कौन करेगा और कैसे करेगा । हमारे विचार में इन गद्दारो को ठीक करने के लिए हमें उन गिने

–चुने नेताओं,पत्रकारों व बुद्धिजीवियों को गोली से उड़ाना होगा जो हर वक्त देश की निर्दोश जनता का खून बहाने बाले मुसलिमजिहादी आतंकवादियों- बामपंथी

नकस्लियों माओवादियों के अनुकूल महौल वनाकर उनके द्वारा किए गए हर कत्लयाम को जायज ठहराकर मासूम मुस्लिम बच्चों व दलितों और आदिवसियों को

कत्लोगारद की अंधेरी दुनिया मे धकेल देते हैं । अब प्रश्न उठता है कि गोली मारेगा कौन । देखो ये गौर करने का सबसे महतवपूर्ण विन्दु है इसका सीधा सा

उतर है कि जितने भी लोग आज देशभक्त होने का दावा कर रहे हैं देश के लिए मरमिटने की कशमें उठा रहे हैं,लेख लिख रहे हैं, भाषण दे रहे हैं उन सबको

अपना मुंह बन्द कर एक दूसरे के साथ सम्पर्क कर संगठित होकर योजना बनाकर इस काम को अन्जाम देना चाहिए।अब आप सोचेंगे कि हथियार कहां से

आयेंगे । देश में जब इन गद्दार आतंकवादियों को भारत के शत्रु देशों व लोगों से हथियार मिल सकते हैं तो क्या ये मुमकिन है कि देशभक्तों को भारत के मित्र

लोगों व देशों से हथियार न मिलें ।बैसे भी इन गद्दारों को खत्म करना सुरक्षाबलों का काम है जब गद्दार नेता व बुद्धिजीवी सुरक्षबलों को इन गद्दारों का खात्मा

करने से रोक रहे है तो सुरक्षबलों को खुद देशभक्त लोगों व संगठनों से सम्पर्क कर उनकी इस पवित्र कार्य में सहायता करनी चाहिए।

कोइ भी विवेकशील ब्यक्ति हमें ये सुभाब देगा कि कानून को अपने हाथ में नहीं लेना चाहिए व कानून को अपना काम करने देना चाहिए । बस यहीं पर समस्या पैदा होती है ये गद्दार कानून को ही तो अपना काम नहीं करने दे रहे ।क्या अफजल को फांसी हमने सुनाई थी नहीं न माननीय सर्वोच न्यायालय ने आदेश दिया था कि अफजल को 19 नम्मवर 2006 को फांसी पर चढ़ा देना चाहिए ।आज 19 नम्मवर 2009 आने वाला है क्या कानून को अपना काम करने दिया गया । नहीं न

अब आप सोचो कि जिस स्थान पर वन्देमातरम् का विरोध कर देश की सम्प्रभुता को ललकारा जा रहा हो क्या उस स्थान पर देश के कानून के प्रतिनिधि को सुरक्षबल भेजकर गद्दारों को गोली से उड़ाकर या कानून के अनुसार जो भी सजा बनती हो वो सजा देनी चाहिए या नहीं सबका जबाब होगा हां कानून के अनुसार जो भी सजा बनती है वो देनी चाहिए । लेकिन यहां तो देश का गृहमन्त्री अपने आप जाकर गद्दारों का हौसला बढ़ाता बेचारा कानून क्या करेगा ।

अब वक्त आ गया है कि हम सच का सामना करें और देशभक्त और देशभक्तों के समर्थकों व गद्दारों और गद्दारों को समर्थकों को पहचान कर अपने आप को देशभक्तों को चुनकर उनके साथ आगे बढ़े और हिजड़े बनकर तमासा न देखें ,कानून,दया,मानबता का बहाना बनाकर अपनी बुजदिली को तर्क देकर छुपाने की कोशिश न करें ।

सच मे हम स्वामी रामदेव जी के हैसले की दाद देते हैं कि उन्होंने गद्दारों के वीच जाकर भी देशभक्ति से ओतप्रोत भाषण दिया पर दुख होता है कि भारत मात की जय या वन्देमातरम् कहने का हौसला वो भी न जुटा सके वैसे भी जिन गद्दारों के साथ भारत विरोधी भारत सरकार खड़ी हो उन गद्दारों के सामने भारत माता की जय या वन्देमातरम वोलने का मतलव है गद्दारों की सरकार से पंगा लेना ।

8 टिप्‍पणियां:

Anshika The cute gal ने कहा…

main aapke vicharon se puri tarah sahmat hun.

rakesh gavali ने कहा…

sir ji bas hukum karo hum hajir hai

बेनामी ने कहा…

tum jin hindu logo ko bata rahe ho ki desh ko gaddaro se bachana hai, unko yeh bhi batao ki sahi hindu kaise bante hai, charo ved parho,ramayan parho,geeta parho,pahle theek hindu bano phir theek se desh ko bhi bacha pao ge,sirf zabardasti ki ghirna aur nafrat se desh ko nuksan hi hoga,pahle achhe hindu ya achha insan bano, phir doosre per ungli othao,jab doosre per ungli uthti hai to teen ungli apni khud ki taraf hoti hai iska dheyan rakh kar logo ko bharkao,

GIRL/WOMAN/FEMALE ने कहा…

main aapke blogs itimes par publish karnaa chati hun agar aap anumati de to....naam aapkaa hi rahegaa..

सुनील दत्त ने कहा…

जरूर करो जी

vedvyathit ने कहा…

desh drohi to apni chal me bahut hdd tk kamyab ho rhe hain aur un ki kamyabi me hmare hi apne hram jade log shamil hain ilaj to un ka krne ki jroort hai

DUKHIYARA ने कहा…

1947 MAIN DESH KA BANTWARA DHARM KE AADHAR PAR HUA. MUSLIMON NE PAKISTAN IS LIYE MANGA KI WOH HINDUON KE SATH REHNE MAIN KUCH DIKKAT ANUBHAV KAR RAHE THE.HAMARE MAHATMA JI AUR CHACHA JI UN KE QADMON MEIN GIR GIR KAR ROYE MALIK MAT JAO AUR AGAR JAO TO PEECHE SAMPOLE TO CHOD JAO, HUMEN SHANTI SE REHHNE KI AADAT NAHIN HAI,KHOPADI KHUJLATI RAHTI HAI IS LIYE MEHARBANI KAR HAMARI ARZ QABOOL KARO. HUM AAP KE NOOR E CHASMON KO APANA BAAP BANA KE RAKHENGE. PAANCH MAIN SE THEEN DIYE DO MAIN BHI HISSA DENGE.AUR AAKHIR UN RAHAM DILON NE MAHATMA AUR CHCHA KA MAAN RAKH LIYA. HINDUON KE KHOPDI KHUJALWANE KE INTEZAM PAR EK BAAR PREM SE BOLO MAHATMA JI KI JAI, CHCHA KI JAI.

Raj ने कहा…

aap ne bahu achhi bat kahi main aap se sahamat hun